fake fir झूठी अफ आई आर से बचने का उपाय

प्रश्न  :- वकील साहब fake fir झूठी एफआईआर, पुलिस और कोर्ट के कानूनी झंझट से बचने का उपाय क्या है और इससे कैसे बचें ?

उतर :- कुछ लोग आपसी मतभेद में एक दूसरे के खिलाफ पुलिस में fake fir  लिखवा देते हैं। अक्सर ऎसे मामलों में जिनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई है, वे पुलिस और कोर्ट के कानूनी झंझटों में फंस जाते हैं और उनका धन, समय और जीवन बर्बादी की कगार पर चल पड़ता है। परन्तु क्या आप जानते हैं कि ऎसी fake fir झूठी शिकायतों के खिलाफ आप कार्यवाही कर अपने आपको बचा सकते हैं। भारतीय संविधान में भारतीय दण्ड संहिता की धारा 482 C.R.PC. ऎसा ही एक कानून है जिसके उपयोग से आप फिजूल की परेशानियों से बच सकते हैं।

क्या है धारा 482 C.R.PC. इससे कैसे केस खत्म हो सकते है 

fake fir

F.I.R. क्या है

भारतीय दण्ड संहिता की धारा 482 के तहत आप अपने खिलाफ लिखाई गई एफआईआर को चैलेन्ज करते हुए हाईकोर्ट से निष्पक्ष न्याय की मांग कर सकते हैं। इसके लिए आपको अपने वकील के माध्यम से हाई कोर्ट में एक प्रार्थनापत्र देना होता है जिसमें आप पुलिस द्वारा दर्ज की गई fake fir झूठी एफआईआर पर प्रश्नचिन्ह लगा सकते हैं। यदि आपके पास अपनी बेगुनाही के सबूत जैसे कि ऑडियो रिकॉर्डिग, वीडियो रिकॉर्डिग, फोटोग्राफ्स, डॉक्यूमेन्टस हो तो आप उनको अपने प्रार्थना पत्र के साथ संलग्न करें। ऎसा करने से हाई कोर्ट में आपका केस मजबूत हो बन जाता है और आप अपने  खिलाफ दर्ज fake fir झूठी फ आई आर को भी आप खत्म कर पाते है |

कैसे करें धारा 482 C.R.PC.  के तहत अपील?

धारा 482 का प्रयोग दो तरह से किया जाता है। पहला प्रयोग अधिकतया दहेज तथा तलाक के मामलों में किया जाता है। इन मामलों में दोनों पार्टियां आपसी रजामंदी से सुलह कर लेती है जिसके बाद वधू पक्ष हाईकोर्ट में वर पक्ष के खिलाफ एफआईआर कैंसिल करने की एप्लीकेशन देता है, जिसके बाद वर पक्ष के खिलाफ दायर 498, 406 तथा अन्य धाराओं में दर्ज मामले हाई कोर्ट के आदेश पर बन्द कर दिए जाते हैं।

दूसरा प्रयोग आपराधिक मामलों में किया जाता है। मान लीजिए किसी ने आपके खिलाफ मारपीट , चोरी, बलात्कार अथवा अन्य किसी प्रकार का षडयंत्र रच कर आपके खिलाफ पुलिस में झूठी एफआईआर लिखा दी है। आप हाई कोर्ट में धारा 482 C.R.PC. के तहत प्रार्थना पत्र दायर कर अपने खिलाफ हो रही पुलिस कार्यवाही को तुरंत रूकवा सकते हैं। यही नहीं हाई कोर्ट आपकी एप्लीकेशन देख कर संबंधित जांच अधिकारी जांच करने हेतु आवश्यक निर्देश दे सकता है। इस तरह के मामलों में जब तक हाई कोर्ट में धारा 482 C.R.PC. के तहत मामला चलता रहेगा, पुलिस आप के खिलाफ कोई कानूनी कार्यवाही नहीं कर सकेगी। यही नहीं यदि आपके खिलाफ गिरफ्तारी का वारन्ट जारी है तो वह भी तुरंत प्रभाव से हाई कोर्ट के आदेश आने तक के लिए रूक जाएगा।

fake fir में क्या ध्यान रखें ?

इन कानून के तहत आप को एक फाइल तैयार करनी होती है जिसमें एफआईआर की कॉपी तथा आपके प्रार्थना पत्र के साथ साथ आपको जरूरी एविडेन्स भी लगाने होते हैं। यदि एविडेन्स नहीं है तो आप अपने वकील से सलाह मशविरा कर पुलिस में दर्ज शिकायत के लूपहोल्स को ध्यान से देख कर उनका उल्लेख करें। इसके अतिरिक्त आप यदि आपके पक्ष में कोई गवाह है तो उसका भी उल्लेख करें। –
धन्यबाद। जानिए F.I.R. क्या है और कैसे इसे लिखा जाता है

जय हिन्द 

द्वारा

अधिवक्ता धीरज कुमार

अन्य पोस्ट 

 

Share on Social Media
  • 6
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

204 Comments

  1. rahul
    • Sujeet Kumar
  2. Pankaj
    • Sachin kumar
  3. Vinod kumar
  4. Vipin kumar
    • Aditya
  5. सद्दाम हुसैन
  6. Vipin kumar
  7. सद्दाम हुसैन
    • सद्दाम हुसैन
  8. Sharad Gupta
  9. Sharad Gupta
  10. Suraj maurya
  11. Sonikeshav
    • Vikas
    • Indrjeet
  12. प्रदोष कुमार
  13. वीरेंद्र सिंह
  14. Sanjay
  15. Shekhar suman
  16. मोहित
  17. Afsana Khan
  18. Puran ram
    • Afsana Khan
  19. Gayatri solanki
  20. Sarvjeet
  21. Renu
  22. Shubham
  23. Sakib
  24. KULDEEP YADAV
  25. Chandmal meghwal
  26. sumedh jagrawal
  27. Mahendra
  28. Pardeep Kumar
  29. Manish
  30. Monu
  31. Ravi goswami
  32. Vivek kumar
  33. Sujeet chaurasiya
  34. Ravi choudhary
  35. Suaheel patel
  36. सतेंद्र परमार
  37. रोहित
  38. Sushil
  39. Satyam singh
  40. Ashish
  41. Omprakash yadav
  42. Rohtas
  43. Patel Sachin
  44. manoj bopte
  45. Deepika
  46. Shukal Kumar
  47. lalu kr raaj
  48. Vijay Kumar
  49. Mohit Mishra
  50. jittu
  51. Parmail Singh
  52. Kishor
  53. Payal
  54. PAWAN KUMAR AGRAWAL
  55. Dharmendra sahu
  56. P
  57. Ajay yadav
  58. Sonu Agarwal
  59. विकाश
  60. Ratanlal
  61. Vishal Mehta
  62. Shahbaz
  63. Omkar
  64. Harish rawat
  65. Nilesh kumar
  66. Vinod Shah Chandoliya
  67. dharmendra
  68. Pawan kumar
  69. Malkeet singh
  70. santoshi
  71. Dev chauhan
  72. पवन सिंह राठौर
  73. Rattan deep Singh gill
    • राजबीर सिंह
    • nagraj

Leave a Reply

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.