स्त्रीधन /दहेज और गिफ्ट में क्या अंतर है ?

शादी में मिले गिफ्ट को नही समझे दहेज और स्त्रीधन , जाने कारण ?

हाइलाइट्स :-
स्त्रीधन क्या होता है ?
कौन से गिफ्ट इस्त्रिधन नही होते है ?
शादी में लडके को समान मिलना नही है दहेज |
दहेज की क्या परिभाषा है ?

आज कल आपने देखा होगा की दहेज के 498A / 406 IPC के केस आम बात हो गई है ऐसे में कोर्ट में ये सवाल जरुर उठता है की सामने वाले ने कितना दहेज लिया या फिर दिया है | कोर्ट में दहेज लिए बिना ही, बिना बात के आरोप भी लगते है जबकि लड़के वाले ने कुछ लिया भी नही होता है | आइये जाने की स्त्रीधन /दहेज और गिफ्ट की क्या परिभाषा है ? और कोर्ट में इसका गलत रूप पेश होने से रोके |

स्त्रीधन क्या है

दुल्हन को शादी से पहले और बाद में अपने मायके से जो भी पैसा सामान या गिफ्ट जो की उसको उसके माता पिता, अन्य परिवार वालो, रिश्तेदारों या दोस्तों से मिले है, लाती है वे सभी सामान, धन और चीजे उसका स्त्रीधन कहलाते है | इस स्त्रीधन में लड़की को मिला फ़र्निचर, इलेक्ट्रॉनिक्स सामान जेवर और रिश्तेदारों और दोस्तों से मिले गिफ्ट सामिल होते है | इस स्त्रीधन पर सिर्फ लड़की का ही अधिकार होता है और वापस नही देने पर आप पर धारा 406 IPC के तहत कार्यवाही हो सकती है | इसमें आपको 3 साल तक की सजा या जुर्माना या फिर दोनों हो सकती है | ये एक cognizable और नॉन बेलेबल/अजमानतीय अपराध है |

दहेज क्या है

जब दुल्हा उसके परिवार वाले या फिर उसके रिश्तेदार लड़की पक्ष से किसी भी प्रकार से पैसे के लेनदेन, समान या फिर समान की क्वालिटी के लिए कहते है या फिर ये कहे की बेहतर समान देने की बात कहते है या फिर किसी भी प्रकार की डिमांड करते है की, ये सामान अच्छा होना चाहिए तो वो डिमांड, दहेज कहलाती है | ये डिमांड शादी से पहले की भी हो सकती है और शादी के बाद भी | मतलब ये की लडके पक्ष के द्वारा, लड़की पक्ष से कुछ भी डिमांड या बेहतर लेनदेन की बात कही जाती है तो वो दहेज मांगना कहलाता है |

गिफ्ट क्या है

जब लड़के और उसके परिवार वालो और रिश्तेदारों को लड़की पक्ष से शादी से पहले और बाद में बिना डिमांड किये उनकी मर्जी से दिया गया जो भी पैसा, सामान और गोल्ड मिलता है वो भी गिफ्ट कहलाता है, | समस्या ये है लोग इसे भी दहेज का सामान या फिर स्त्रीधन कहते है | जबकि ये स्त्रीधन नही है, इस पर लड़की का कोई अधिकार नही है | ये लड़के व उसके परिवार वालो के लिए गिफ्ट है |

जब लडकी को अपने पति, ससुराल वालो जिसमे सास ससुर और बाकी परिवार के सदस्य सामिल है और लडके पक्ष के रिस्तिदारो से जो भी पैसा या सामान मिलता है वो गिफ्ट कहलाता है | वो लड़की का स्त्रीधन नही होता है |

लडके को शादी में मिला सामान नही है दहेज

मतलब लड़की और लडके को अपने-अपने ससुराल वालो की तरफ से जो कुछ भी बिना डिमांड के मिलता है वो गिफ्ट होता है दहेज नही | लोग इस गिफ्ट को दहेज या इस्त्रिधन मानते है और इसी का मुद्दा कोर्ट में उठाते है जबकि ये गिफ्ट है दहेज नही | दहेज तो वो है जो की डिमांड किया जाए | इसके लिए आप धारा 498A (3 साल की सजा व जुर्माने) के अलावा dowry prohibition act की धारा 3 व 4 के तहत 5 साल की सजा और 15 हजार के जुर्माने के लिए उतरदायी होते है |

अब जब कभी भी आपके सामने कोर्ट में लड़की वाले ये मुद्दा उठाये की हमने इतना दहेज दिया था तो उस आप ऑब्जेक्शन ले की वो दहेज नही था वो गिफ्ट था दहेज वो है वो डिमांड किया जाए |

अन्य बाते जरूरी बाते

इसमें सवाल ये उठता है की जब कोर्ट में केस चलता है और लड़की का सामान वापस लेने की बात उठती है तो वो लड़के के परिवार वालो और रिश्तेदारों को दिए समान का भी मुद्दा उठाती है | इसमें वो इसकी लिस्ट भी देती है | ऐसे में अगर लडके पक्ष के वे लोग कोर्ट केस पार्टी नही है तो उनको दिए गये पैसे या सामान की बात उठानी गलत है और लड़का उनको देने के लिए उतरदायी नही होता है आप इसके लिए कोर्ट में ऑब्जेक्शन ले सकते है की लड़के पक्ष ने भी गिफ्ट के रूप में लड़की पक्ष को पैसा और सामान दिया होता है वो भी गिफ्ट ही दिया होता है | लेकिन लड़की वालो का खर्चा ज्यादा होता है इसके लिए कोर्ट का कुछ झुकाव लड़की की तरफ हो सकता है | लेकिन ये लीगल नही है | अंत में जजमेंट के रूप में ये लड़के के पक्ष में ही जाता है |

online advise : fees 1000 rupees contact on 9278134222

ज्यादा जानकारी के लिए आप मेरे you tube channel पर भी इसकी विडियो देख सकते है उसका लिंक निचे दिया गया है :-

इस्त्रिधन /दहेज और गिफ्ट में क्या अंतर है ? https://www.kanoonigyan.co.in/what-is-istridhandowry-and-gift-in-hindi/

जय हिन्द

Written by

Advocate Dheeraj Kumar

(These above said Para and words are registered as copy right, so don’t try to copy these)

इन्हें भी जाने :-

Category: क्राइम अगेंस्ट वीमेन

Share on Social Media
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

4 Comments

  1. Jyoti

Leave a Reply

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.